About Me

इस साईट में शामिल हो

Sunday, 11 September, 2011

पहलवान पत्नी


अपनी पहलवान पत्नी से परेशान होकर
पति बोला रे मेरे
प्राणोँ की प्यासी
अच्छा हो मैँ गृहस्थी छोड़कर हो जाऊं संन्यासी ।
चला जाऊं मथुरा या काशी सुनकर पत्नी ने टोका
रे सत्यानाशी
यदि तू हो गया संन्यासी ।
चला गया हरिद्वार या काशी तो अपनी आने वाली
डेढ़ दर्जन बच्चोँ की टीम किसके सहारे करेगा ?
फ्रिज , टी.वी , फर्नीचर इनकी बकाया किश्तेँ
क्या तेरा बाप भरेँगा ?

No comments:

Post a Comment