About Me

इस साईट में शामिल हो

Wednesday, 13 October, 2010

kuchh shayari ho jaye.....

“मोहब्बत हम क्या करें कोई इस काबिल मिलता नहीं,
कोई दिल से नहीं मिलता, किसी से दिल नहीं मिलता”


“तेरे प्यार की तमन्ना, गमें जिन्दगी के साये
बड़ी तेज़ आंधियां हैं , ये चिराग बुझ ना जाएँ …
कोई हल तू ही बता दे, इस दिल की कश-म -कश का
तुझे भूलना भी चाहा, तेरी याद भी सताए
तेरे प्यार की तमन्ना, गमें जिन्दगी के साये
बड़ी तेज़ आंधियां हैं , ये चिराग बुझ ना जाएँ”



पथ्थर में खुदा हो सकता है, मन्दिर मे नमजी जाये तो…,
सुन कर अजान आ सकते राम, मस्जिद मे दीप जलाये तो…।
ये सब ढाचे हैं, मकान हैं, इनमे उसका मुकाम नही…,
समझ- समझ ना समझ, समझ, ना समझ, समझ, ये बात समझ्…
दुनियां को बनाने वाले की फितरत का इतना रज़ समझ…॥



पथ्थर में खुदा हो सकता है, मन्दिर मे नमजी जाये तो…,
सुन कर अजान आ सकते राम, मस्जिद मे दीप जलाये तो…।
ये सब ढाचे हैं, मकान हैं, इनमे उसका मुकाम नही…,
समझ- समझ ना समझ, समझ, ना समझ, समझ, ये बात समझ्…
दुनियां को बनाने वाले की फितरत का इतना रज़ समझ…॥

7 comments:

  1. kehte hain log ki badle kismat to bane ameer
    magar karmo par soch se pare hai ye takdeer
    apni zindagi yun barbaad na kar tu
    khilwaad hai ye kismat, khilwaad haathon ki lakeer

    ReplyDelete
  2. Me Chalta Raha Is Tanha Safar Me
    Aate Rahe gum Ke Tufaan Is Dagar Me
    Fir Bhi Na Dagmagaya Main Is Safar Me
    Aur Yuhi Chalta Raha Main Is Tanha Safar Me

    ReplyDelete
  3. Mila wo bhi nahi krte,
    Mila hm bhi nahi krte,
    Wafa wo bhi nahi krte,
    Dga hm bhi nahi krte,
    Unhe ruswaai ka dar,
    Hme tanhai ka dar,
    Gila wo bhi nahi krte,
    Shikwa hm bhi nahi krte,
    Kisi mod pe mulakaat ho jaati hai aksar,
    Ruka wo bhi nahi krte,
    Thehra hm bhi nahi krte,
    Jab bhi dekhte hai unhe,
    Sochte hai kuchh khe unse,
    Suna wo bhi nahi krte,
    Kha hm bhi nahi krte,
    Lekin ye bhi sach hai,
    Unhe bhi mohabbat hai hmse,
    Inkaar wo bhi nahi krte,
    Izhaar hm bhi nahi krte,

    ReplyDelete
  4. शान से चलो !!
    क्यों फिक्र गिरने की जब
    बादलों को छूने का हौसला है तुम में ,
    बस निडर बनो और बढ़ चलो

    नहीं होते परवाज़ सभी के पास,
    लग जायेंगे पंख पैरों में ,
    उड़ने की चाह लेकर बस उड़ चलो |

    मंजिल की फिक्र किस बात की
    जब रास्ते पर है तुम्हे यकीं
    हर मोड़ पर मिलेगी एक नयी मंजिल
    यह अभी से मान के चलो |

    साथी साथ हो तो अच्छा है
    साथ ना मिले तो एकला चलो |
    चले हो तुम तो फिर ठोकर का डर क्यूँ !
    चल दिया है तो फिर शान से चलो !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. याद आयेगी हमारी तो बीते कल की किताब पलट लेना,
      यूँ ही किसी पन्ने पर मुस्कुराते हुए हम मिल जायेंगे.

      Delete
  5. Keemti Palo Ko Yu Hi Na Bitana, Haste Rehna Rokar Hame Na Rulana, Hame Yad Kr Rahe Ho To Wo Hi Kafi Hai, Kabhi Bhul Bhi Jaoge To Bas Hame Na Batana.

    ReplyDelete
  6. Humko adaayein dikhati hai ye, Jeena bhi humko sikhati hai ye. Kabhi paas hai to kabhi door hai, Ye zindgi bhi badi mashhoor hai. Kabhi karti hai aankh micholi, kabhi sajaye sapno ki doli, Itni shararat hai zindgi se.


    Kabhi khushiyon ka mela lagta hai, Kabhi har koi akela lagta hai. Kabhi humpe karam pharmati hai, Kabhi humse nazar churati hai. Palkon se isko chakhte hain, Isey pass hi apne rakhte hain, Itni nazakat hai zindgi se, Humko mohabbat hai zindgi se.


    Suna Hai Pyaar Ke Kissey Ajib Hote Hain, Khushi Ke Badle Gam Naseeb Hote Hain, Mere Dost Mohabbat Na Karna Kabhi, Pyaar Karnewale Bade Badnaseeb Hote Hai

    ReplyDelete