About Me

इस साईट में शामिल हो

Wednesday, 22 February, 2012

शर्म तो है ही नहीं

 एक दक्षिण भारतीय व्यक्ति की नई-नई शादी हुई. एक दिन उसने खाने पर अपने उत्तर भारतीय मित्र को बुलाया.

दक्षिण भारतीय व्यक्ति की पत्नी खाना परोसते समय कहना तो यह चाहती थी कि खाइए-खाइए, शर्म न कीजिए, लेकिन हिन्दी ठीक न आने के कारण बोल पड़ी- ‘खाओ-खाओ शर्म तो है नहीं. ‘

No comments:

Post a Comment